About us - Privacy Policy - Disclaimer - Contact us - Guest Posting

[SEO Alert] Google Penguin 4.0 algorithm update ho chuki hai

आज इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं कि google penguin update 4.0 algorithm kya hai ? और इससे blog SEO पर kya effect पड़ेगा, जबकि मैने अपनी ‌पिछली ‍पोस्ट में how to stop spam comments in WordPress website के बारे में बताया था। यदि आप blogging के क्षेत्र में new हैं तो मुझे नहीं लगता कि आपको इस तरह के algorithm के बारे में ज्यादा कुछ मालूम होगा। और न ही सायद किसी hindi blogger ने अभी तक इस latest penguin update के बारे में ज्यादा कुछ information अपने blogs पर share की है। इसलिए में आपको इस article के माध्यम से बताना चाहूँगा कि इसका negative और positive effect हमारी blogging journey पर किस तरह पड़ेगा। जी हाँ दोस्तों, Google ने 23/09/2016 को Google algorithm Penguin के old version को update कर दिया है, जिसे अब Penguin 4.0 algorithm के रूप में जानेंगे।

Google Penguin 4.0 algorithm updated


Google Penguin kya hai ?

यह एक Google search से related algorithm है जिसे google समय – समय पर update करके bloggers के blogging career में खलबली मचाता रहता है। और प्रत्येक update पर करोड़ों websites को कचरा बना देता है। अब आप समझ ही गए होंगे कि ये कितनी powerful algorithm है।

वैसे इसे Google ने अप्रैल 2012 में launch किया था। उस समय इसने लगभग 80% website और blogs को अपने search engine से बाहर करके victim bloggers के career को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया था। उसके 2 years बाद 2014 में फिर से इसे update किया गया था, लेकिन उस समय इसका कुछ ज्यादा negative effect देखने को नहीं मिला था।

यदि में 2012 की बात करूँ तो ये समय real में उन bloggers के लिए बहुत ही painful time था, जिनके blogging career को google ने उनके blogs को penalize करके पूरे तरीके से ख़त्म कर दिया था।

जैसा कि हम सब जानते हैं कि every blog पर approx 80 – 95% organic traffic होता है, और जब उसे यही traffic मिलना बंद कर दिया जाये तो blog का बंद होना तो निश्चित हो जाता है। इसी लिए इसके new update (Google Penguin 4.0 algorithm) को लेकर bloggers के लिए बहुत बड़ी चुनौती एक बार फिर से सामने आ गयी है।

Google Penguin ke negative aur positive effect kya hai ?

यदि हम इसके द्वारा पड़ने वाले negative SEO effect के बारे में बताऊँ तो जैसा कि में ऊपर बता चुका हूँ कि यह एक google search related algorithm है जिसका सीधा impact spam blog के SEO पर पड़ता है। जो blogger, black hat SEO को use करते हैं, जैसे over backlinks create करना, किसी company से backlinks purchase करना, Keyword stuffing करना, unrelated niche site पर अपने blog के लिए comment करके backlink बनाना, अपने blog पर spam comments publish करना, traffic buy करना इत्यादि। मतलब किसी भी तरह की black hat seo techniques को उपयोग करने वाले blogs को penguin algorithm के द्वारा detect करके google penalty लगाकर search result से बाहर कर देता है।

मतलब ये उन bloggers के लिए बहुत ही harmful algorithm होती है, जो बहुत ही कम समय में अपने blog को Top पर लाने का सपना देखते हैं। हम सब जानते हैं कि blogging कोई ऐसा रास्ता नहीं है जिसके द्वारा आप एक ही month में huge income generate कर सको, यदि इसमें real में किसी को career बनाना है तो उसे hard work करने के साथ ही बहुत समय तक धैर्यता भी रखनी जरुरी है।

यदि कोई blogger ऐसा सोचता है कि bad seo tactics अपनाकर अपने blog को first page पर लाने की कोशिश करता है तो इसके लिए google day by day अपनी algorithm को update करके search result को बहुत ही strict करता जा रहा है। इन्हीं में से एक Google Penguin 4.0 algorithm है। जो bad seo वाले blogs को identify करके उन्हें penalize करने का काम करेगी।


यदि हम google algorithm update से होने वाले positive effect की बात करें तो जो real blogging करते है, मतलब hard work के साथ साथ white hat SEO को अपने blogs पर follow करते हैं उन्हें इस तरह के algorithm से बहुत ही बड़ा फायदा होता है। क्योंकि जो लोग bad seo को use करके अपने blog को search result में first position पर लाने में कामयाब हो जाते हैं उन्हें Google Penguin algorithm penalize करके real content को जगह दे देती है, लेकिन ये content की quality पर भी depend करता है।

कहने का सीधा सा मतलब है जो bad blogs होते हैं उनकी rank को decrease करके real blogs की rank content के अनुसार increase कर दी जाती है, जिससे white hat SEO वाले blogs का organic traffic बहुत ही ज्यादा quantity में आना शुरू हो जाता है। अब आप सोच रहे होंगे कि सारे bloggers सिर्फ white hat seo methods को ही क्यों use नहीं करते ? तो इसका सीधा सा answer है कि white hat seo techniques से blog को grow होने में काफी time लग जाता है। इसलिए कुछ लोग bad seo methods को use करते हैं, जिसका punishment उन्हें Google Penguin algorithm समय समय पर देती रहती है। If you know more about it than you should go on Penguin 2012 official page.

Google Penguin 4.0 updated algorithm me new kya hai ?

जैसा कि में ऊपर बता चुका हूँ कि ये spammy links से नफरत करती है, यदि कोई भी blog किसी spam links से connect है तो वो इस तरह के blog को penalize कर देगी। जिसको आप समय से पहले recover कर सकते हैं।

Penguin is now real-time : यदि में Google Penguin के 2012 के version की बात करूँ तो उस समय ये specific time में एक साथ सभी bad website को penalize करती थी, लेकिन अब Penguin data real-time में ही refreshed होगा। मतलब जैसे ही किसी bad content को ये detect करेगा वैसे ही उसकी search result में position को fix कर देगा। यदि उस affected content को blogger द्वारा ठीक करके update कर दिया जायेगा तो Google Penguin 4.0 recrawled और reindexed कर देगी।

Penguin is now more granular : Google Penguin 4.0 अब यदि किसी page को spam links से connected detect करती है तो केवल उसी page या specific keyword group की ranking को devalue करके adjust कर देगी ना कि whole blog address को। और इसमें सबसे important बात ये है कि Google Penguin लगभग 200 plus signals को use करके rank को determine करेगी। If you want to know more than you should go on Penguin update 2016 official Announcement page.

अब में समझता हूँ कि आप अच्छी तरह से जान गए होंगे कि Google Penguin 4.0 algorithm update kya hai। में आपको एक बार फिर कहूँगा कि अपने blogs पर सिर्फ white hat seo methods का ही use करें। यदि इस article से related कोई question या suggestion है तो कृपया comment के माध्यम से आप हमारे साथ जरुर share करें। और यदि ये post आपको पसंद आये तो social media पर share करना न भूलें।

Comments

  1. Reply

    • Reply

  2. By Nekraj Bhartiya

    Reply

  3. By Dronacharya

    Reply

    • Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *