About us - Privacy Policy - Disclaimer - Contact us - Guest Posting - Income Reports

H1 to H6 Heading and Subheadings Post Me Kaise Use Kare ?

नमस्कार friends, आज की इस post में हम आपको बताने जा रहे हैं कि apni blog post me H1 to H6 Heading ko kaise use kar sakte hai. या How to use heading and subheadings in blog post. कुछ समय पहले मुझसे किसी Blogger ने पूछा था कि Article लिखते समय heading aur subheadings ko kaise use karna chahiye? यदि आप भी ऐसी confusion को लेकर problem face कर रहे हैं तो ये post आपके लिए ही है। यदि आप इस post को last तक carefully read करेंगे तो H1 to H6 tag से related approx all confusion दूर हो जायेंगीं।

H1 to H6 Heading and Subheadings Post Me Kaise Use Kare

H1 to H6 Heading and Subheadings tips to make your blog 10 time better :

किसी भी post में headings का होना बहुत जरुरी होता है। यदि आप without headings के कोई content लिखते हैं तो वो एक chinese (चायनीज) content की तरह होता है। ऐसा लगता है जैसे कोई पोस्ट चायनीज language में लिखी हो। इस तरह के article को ना तो readers like करते हैं और ना ही search engine.

Without headings वाली post का bounce rate बहुत high होता है। क्योंकि readers content read करते करते bore हो जाता है और बहुत ही जल्दी page को close कर देता है।

यदि आप powerful post लिखना चाहते हैं तो आपको कुछ heading and paragraph rules को follow करना होगा।

Rule no.1 – Every heading या subheadings में maximum 300 words ही लिखने चाहिए।

Rule no.2 – Every heading या subheadings में केवल two paragraph होने चाहिए।

Rule no.3 – Every paragraph में maximum 150 words लिखने चाहिए। इस प्रकार “one heading = 300 words = 2 paragraph = 150 + 150 words = 300 words”.

अब आगे बढ़ते हैं और आपको H1 to H6 tag (heading and subheadings) के बारे में briefly बताते हैं कि इनका web page या post के लिए क्या use है? और किस heading को content में किस तरह use करना चाहिए?

What is a H1 tag ?

ये एक html tag है। जिसे किसी web page title के लिए use किया जाता है। मतलब जब हम अपनी website पर कोई article या post share करते हैं तो उसका जो title होता है, वो उस post या page का H1 tag कहलाता है।

यदि हम इसे search engine optimization के हिसाब से देखें तो ये हमारी पोस्ट के लिए बहुत ही important html tag होता है। क्योंक़ि जब search engine किसी भी page को crawl करता है तो search engine bots सबसे पहले keyword से related H1 tag को ही scan करता है। इसीलिए H1 tag या post title में अच्छे keyword को insert करना organic traffic प्राप्त करने के लिए सबसे ज्यादा important माना जाता है।

What is H1 H2 H3 H4 H5 H6 tag?

यदि में H2 tag की बात करूँ तो ये web page की subheading होती है। मतलब किसी post title की subheading होती है।

यदि इसे SEO के हिसाब से देखा जाये तो H2 tage भी किसी भी पोस्ट या web page के लिए बहुत जरुरी होता है। इसलिए हम पहले भी other post में बता चुके हैं कि subheading H2 में post के main keyword से related keyword को insert करना हमारी post की search ranking के लिए बहुत important होता है, इसे avoid करना किसी भी blogger के लिए harmful हो सकता है।

अब बात करते हैं H3 html tag की तो इसे minor heading या third level heading कहते हैं।

यदि H3 tag का SEO में योगदान देखा जाये तो इसका भी H2 tag की तरह अपना महत्त्व होता है। मतलब यदि हम किसी पोस्ट में H3 minor heading use करते हैं तो इसमें भी related keyword को natural way में add करना बहुत ही important माना जाता है।

यदि H4 tag की बात की जाये तो इसे fourth level html tag कहा जाता है। इसका SEO में ना के बराबर महत्त्व होता है। क्योंकि इस tag का use web development में sidebar headings के लिए किया जाता है।

इसी प्रकार H5 और H6 html tag को web developer क्रमशः fifth level और sixth level html tag के रूप में call करते हैं।

इन दोंनों html tag का search engine optimization में मेरे अपने खुद के opinion के अनुसार कोई योगदान नही होता है। इन दोनों tags का उपयोग अपने content को divide और well form में describe करने के लिए किया जाता है।

वैसे यदि देखा जाये तो शायद ही कोई blogger ऐसा हो जो अपने article में H5 and H6 tag का use करता हो। यदि कोई इन्हें use करता भी है तो उसका article approx 5000+ words का होता है। और में यहाँ in short में बताना चाहूँगा कि every html tag (H1 to H6) का specific rule होता है, जिसे follow करते हुए इन tags को post में या web page पर use किया जाता है।

Importance of heading in writing :

किसी भी article या post में headings का होना बहुत जरुरी होता है। Heading and Subheadings (H1 to H6) के through हम अपने topic को अच्छे से divide करके उसे good manner में describe करते हैं। जिससे हमारी पोस्ट user friendly बन जाती है। मतलब इससे किसी भी readers को topic को अच्छे से समझने में आसानी होती है।

लेकिन कुछ bloggers heading and subheadings का use अपनी post में करते तो हैं लेकिन without reason. या सीधे शब्दों में कहें तो कुछ blogger अपनी पोस्ट में Un-Natural way में heading and subheadings का use करते हैं, जो SEO के साथ-साथ readers पर भी negative impact डालता है। इसलिए हमेशा यदि पोस्ट में किसी heading की जरुरत हो तभी use करना SEO और readers दोनों के लिए best रहता है।

और ये बात भी 100% true है कि without heading tag use किये आप अपने content को सही से organize करते हुए नही लिख सकते।

Tips for using H1 to H6 right way :

यदि आप कोई article अपने blog के लिए लिखने वाले हैं तो आपको सबसे पहले उस topic पर थोड़ा सा paper work भी कर लेना चाहिए, जिससे आप अपने topic से भटकेंगे नहीं। और well formed में अपने content को लिख सकते हैं।

Paper work केवल दो चीजों के लिए करना best होता है, First one is keyword research and second is heading and subheadings.

तो सबसे पहले अपने topic का main keyword और related keywords को खोजकर paper पर लिखकर रख लें। फिर ये देखें कि topic के अंदर हमें क्या क्या information include करनी है। इसे आसान बनाने के लिए topic से related heading and subheadings paper पर note कर लें।

अब हम आपको बताते हैं कि H1 to H6 tag को सही तरीके से अपने content में manage करते हुए कैसे use करना है।

Content me H1 heading tag SEO ke liye kaise use kare?

जैसा की में पोस्ट की starting में बता चुका हूँ कि H1 tag को ही title tag कहते हैं। इसलिए इस पर सबसे ज्यादा ध्यान देना होता है। क्योंकि title tag ही search engine सबसे पहले scan करता है। इसलिए अपने post title को attractive बनाने के साथ-साथ SEO friendly भी बनाना होता है।

जो आपकी पोस्ट का main keyword होता है उसे title के starting में use करना ज्यादा best होता है। यदि ऐसा possible ना हो तो main keyword को title के बीच में भी use कर सकते हैं।

कुछ bloggers को मैंने देखा है कि वो H1 tag को अपनी post में भी heading के रूप में use करते हैं, मतलब वो two times H1 tag को अपने article में insert कर देते हैं। पहला title में और दूसरा heading में, जो कि बहुत ही ग़लत है। हमें H1 tag को केवल title के रूप में ही use करना चाहिए।


Post me H2 subheading tag SEO ke liye kaise use kare?

में आपको बताना चाहूँगा कि H2 subheading को अपनी post में use करना SEO के लिए बहुत ही important होता है। मतलब किसी भी पोस्ट में यदि H2 subheading को use करते हुए content नहीं लिखा गया है तो वो post SEO friendly नहीं होती है।

इसलिए article को search engine friendly बनाने के लिए H2 subheading जरूर add करें और इसमें main keyword को variation में use करें या related keyword भी use कर सकते हैं।

How many H2 tags per page or post?

कुछ समय पहले मुझसे किसी blogger ने पूछा था कि subheading H2 को अपनी पोस्ट में कितनी बार use कर सकते हैं? इसलिए में यहाँ mention करते हुए clear कर देना चाहता हूँ कि H2 tag को 1-3 बार तक अपनी पोस्ट में use कर सकते है। लेकिन इसे एक से ज्यादा बार without requirement के use करना सही नही होगा। यदि किसी पोस्ट में कोई ऐसी जानकारी आपको देनी है जो real में H2 tag के काबिल है तो आप second H2 subheading के रूप में use कर सकते हैं।

H2 subheading को minimum एक बार और maximum तीन बार एक पोस्ट में use कर सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे जहाँ तक में जानता हूँ इस समय बहुत कम ऐसे Hindi bloggers हैं जो इस तरह के content को अपनी writing skill के द्वारा प्रभावित कर पाते हैं। इसलिए यदि आप newbie हैं या आपको writing skill की अच्छी समझ नहीं है तो अपनी पोस्ट में सिर्फ एक बार ही subheading का use करें। नहीं तो SEO के लिए problem create हो सकती है। अब आप जान गए होंगे कि Why using subheadings is a good idea.

Post me H3 minor heading ka SEO ke liye kaise use kare?

यदि आपकी कोई ऐसी post है जिसमे H3 tag की requirement है, तो आप इसे भी अपनी post में minor heading के रूप में add कर सकते हैं। H3 tag भी search engine के लिए beneficial होता है।

H3 heading में भी आपको related keyword use करना SEO के लिए बहुत लाभदायक होता है। keyword insertion के लिए heading and subheadings से ज्यादा best जगह कोई नही होती है। इसलिए minor heading में भी पोस्ट से related keyword को use करना चाहिए।

Without keyword या keyword phrase कोई भी html tag like H1 H2 H3 सभी SEO के लिए useless होते हैं।

अब आपके mind में एक question जरूर आ रहा होगा कि H3 tag को पोस्ट में कितनी बार use कर सकते हैं? तो में आपको बता दूँ कि इसे भी आप अपनी पोस्ट में 1-3 बार use कर सकते हैं, requirement के अनुसार।

Post me H4 heading tag SEO ke liye kaise use kare?

जैसा कि मैंने इस पोस्ट में पहले भी बताया है कि H4 html tag sidebar headings के लिए भी use किया जाता है, इसलिए इसका content में SEO के हिसाब से use करना किसी प्रकार से beneficial नहीं है।

लेकिन यदि आपके content की requirement है तो आप इसे use कर सकते हैं। लेकिन इसका search engine में कोई फ़ायदा नहीं होता है। मुझे नहीं लगता इस heading tag को कोई blogger SEO purpose के लिए use करता हो। हाँ ये जरूर है, कि इस tag से अपने content को अच्छे से divide करने के लिए जरूर use करना चाहिए, यदि necessary हो तो।

Post me H5 and H6 tag SEO ke liye kaise use kare?

यदि आप किसी भी blogger की blog post को scan करेंगे तो आप खुद ही समझ जाएंगे कि इन दोनों headings को किसी भी post में use नहीं किया गया होगा। और इसका reason होता है कि इनका search engine से कोई relation नहीं होता है। हाँ हो सकता है कि किसी blogger ने किसी post में use किया हो तो उसका reason सिर्फ content को अच्छे से divide करना ही उसका मकसद रहा होगा।


जिस post में इन tags को use किया जाता है उसकी length बहुत ज्यादा होती है। इन headings की SEO के हिसाब से कोई need नहीं होती है। इन्हें search engine सिर्फ bold text के रूप में read करता है।

यदि में अपने article की बात करूँ तो मैंने सिर्फ कुछ ही posts में H4 tag को use किया है, और वो भी conclusion के लिए।

How to add heading and subheadings to your post article?

कुछ new blogger ऐसे हैं अभी कुछ समय पहले ही अपना Blogging career start किया है और उन्हें heading and subheadings को अपने content में properly insert करना नहीं आता है, इसलिए में one by one Blogger और WordPress दोनों platform के लिए post में H1 to H6 tag add करना बताने जा रहा हूँ। यदि आप भी new blogger हैं तो नीचे दी गयी guide को follow कर सकते हैं।

Blogspot post me H1 to H6 tag kaise insert karte hai ?

  1. सबसे पहले अपना Blogger post Editor open कीजिये।
  2. अब जिन words को heading बनाना है उन्हें select कर लें।
  3. अब left side me Normal वाले option पर click कीजिये।
  4. अब Heading (H2) Subheading (H3) या Minor heading (H4) में से जो भी heading बनानी है उस पर click कर दें।Blogspot post me H1 to H6 tag kaise insert karte hai

WordPress post me H1 to H6 tag kaise insert karte hai ?

  1. सबसे पहले अपना WordPress post Editor open कीजिये।
  2. अब जिन words को heading बनाना है उन्हें select कर लें।
  3. अब left side me paragraph वाले option पर click कीजिये।
  4. अब heading 2 (H2), heading 3 (H3), heading 4(H4), heading 5 (H5) and heading 6 (H6) में से जो भी heading बनानी है उस पर click कर दें।Wordpress post me H1 to H6 tag kaise insert karte hai

Conclusion:

H1 tag मतलब post Title को SEO friendly बनाने के लिए अच्छे keyword का use करना चाहिए। और अपने article में H2 H3 tag को भी related keywords या keyword phrase के साथ include करें। H2 H3 subheadings को 1-3 बार अपने content में use कर सकते हैं।

में आपको बताना चाहूँगा कि सिर्फ H1 H2 H3 SEO के लिए beneficial होती है। लेकिन ध्यान रहे कोई भी heading and subheadings content की requirement पर ही use करें। Otherwise readers और SEO दोनों पर negative असर पड़ सकता है, कोई भी heading जबरदस्ती add नहीं करनी है। यदि आप अपने content में H4 H5 H6 headings को use ना करना चाहें तो ना करें इससे कोई problem नहीं होगी।

इस प्रकार आप समझ गए होंगे कि H1 to H6 tag ko apne content me kaise use kar sakte hai. यदि फिर भी आपको heading and subheadings को लेकर कोई confusion है तो आप comment करके हमसे पूछ सकते हैं। और ये post आपको कैसी लगी ये भी हमें जरुर बताएं। और यदि आप हमारी help करना चाहे तो आप इस post को social media पर share कर दें।     धन्यवाद !

Comments

  1. By Deepak Vaishnav

    Reply

    • Reply

      • By Nekraj

        Reply

  2. Reply

  3. Reply

    • Reply

  4. By Tanveer

    Reply

  5. By Vijay

    Reply

    • Reply

  6. By Tanveer

    Reply

  7. By Deepak sahu

    Reply

    • Reply

  8. By Tanveer

    Reply

    • Reply

  9. Reply

    • Reply

  10. Reply

  11. Reply

  12. By Anu srivastava

    Reply

  13. By Nitesh kumar

    Reply

  14. By Ravi parwani

    Reply

    • Reply

  15. By kamleshparihar

    Reply

    • Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *