About us - Privacy Policy - Disclaimer - Contact us - Guest Posting

Keywords Aur Queries Me Kya difference Hota Hai ?

इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं कि Keywords kya hote hai. Queries kya hoti hai. Keywords aur Queries Me Kya difference Hota Hai. Keywords Aur Queries ko apni post me kaise use karna chahiye, इन सब सवालों के जवाब में इस article में देने जा रहा हूँ, जबकि मैने अपनी ‌पिछली ‍पोस्ट में Long tail keyword research guide in Hindi के बारे में बताया था। यदि आप blogging में new हैं तो आपको keywords को लेकर बहुत सारी problems को face करना पड़ रहा होगा। इसमें सबसे बड़ी problem कुछ लोगों की यही होती है कि उन्हें यही नहीं मालूम होता है कि keyword आखिर होता क्या है ? इसीलिए उन newbies को ध्यान में रखते हुए इस post में Keywords Aur Queries से related सारे सवालों के जवाब देने जा रहे हैं, जिससे वो भी अपने blog पर सही तरीके से SEO कर सकें।

Keywords and Queries Me Kya difference Hai


ज्यादातर मैंने देखा है कि जितने भी new blogger होते हैं उन्हें keywords को समझने में बहुत सारी परेशानियाँ होतीं हैं, जिसके कारण वो blogging के क्षेत्र में आगे नहीं बढ़ पाते और आखिर में परेशान होकर blogging को हमेशा – हमेशा के लिए bye बोल देते हैं। लेकिन ऐसा करना बिलकुल ग़लत है। हमें यदि किसी बड़े सपने को पूरा करना है तो उस रास्ते में आने वाली every problems से डटकर मुकाबला करना चाहिए, Problems से भागना मतलब अपनी मंजिल से दूर भागना जैसा ही होता है।

What are keywords {keywords kya hote hai} :

ये वो special words होते हैं जिन पर advertiser अपने products के लिए bid set करते हैं। I mean, ये वो words होते हैं जिन्हें advertiser अपने campaign के लिए target करते हैं और इन words के लिए अलग – अलग bid rate (price) set करते हैं अपने प्रोडक्ट का advertisement करवाने के लिए।

Keywords के द्वारा search engine ये decide करता है कि user (visitor) किस चीज के बारे में information चाहता है। किसी specific keyword के लिए बहुत सारे results मिलते हैं क्योंकि एक keyword को कई प्रकार के product या services के लिए उपयोग किया जाता है।


चलिए में इसके लिए आपको एक example के through समझाने की कोशिश करता हूँ, जैसे यदि आप किसी “Smartphone” के बारे में जानना चाहते हैं तो इसे एक keyword ही माना जायेगा। इसी तरह यदि आप “Sony mobile” के बारे में जानना चाहते हैं तो search engine इन words को एक keyword की ही तरह consider करता है। Keyword internet marketer के द्वारा target किया जाता है अपने advertisement के लिए।

इसका मतलब ये नहीं कि keyword का use marketer ही करेंगे, बल्कि marketer का काम तो उस words की price set करना होता है जिससे उनका product ज्यादा लोगों तक पहुँच सके।

जबकि इसका सबसे ज्यादा advantage तो Bloggers को लेना होता है, क्योंकि कोई भी user search engine में किसी specific service या product के बारे में information लेने के लिए प्रयोग करता है और blogger का काम किसी service या product के बारे में जानकारी देना होता है इसलिए उसे अपने website या blog पर किसी चीज के बारे में information देते समय उस topic से related best keywords को भी अपने article में insert करना होता है।

और जो blogger अपने article में जितने अच्छे -अच्छे keywords का उपयोग करता है, उसका वो article उतना ही ज्यादा और जल्दी popular हो जाता है। लेकिन यदि कोई blogger अपनी post में keyword stuffing करता है तो इसका एक negative impact भी पड़ता है, जिसकी वजह से आपका blog spam भी हो सकता है।

यदि आप अपने blog में white hate method से keyword optimization करेंगे तो में आपको guarantee देता हूँ कि आपका blog एक दिन जरुर popular blogs के नामों में गिना जायेगा।

Types of keywords :

अब में आपको keywords कितने प्रकार के होते हैं इसके बारे में बताने जा रहा हूँ –

  1. Research : ये वो keywords होते हैं जो 1 या 2 words से मिलकर बने होते हैं। इन्हें Head tail भी कहते हैं।
  2. Consideration : ये 2 या 3 words से मिलकर बनते हैं। इन्हें Mid tail भी कहा जाता है।
  3. Purchase : ये 3 या इससे ज्यादा words से मिलकर बनते हैं। इन्हें long tail keywords भी कहा जाता है।
  4. Loyalty : ये किसी specific Brand का नाम होते हैं जो ज्यादातर केवल एक words से मिलकर बने होते हैं। जैसे Godaddy, Bluehost, Hostgator इत्यादि।

अब आपके mind में एक question जरुर फुदक रहा होगा कि इतने तरह के keywords होते हैं तो हमें किस तरह के words के लिए keyword research करनी चाहिए या अपनी post के लिए किस तरह के keywords select करना चाहिए ? तो इसके लिए में आपको यही कहूँगा कि आप अपने article या post के लिए ज्यादातर long tail keywords का उपयोग करना चाहिए।

क्योंकि इनके द्वारा ही हमारी post को सबसे ज्यादा organic traffic मिलता है। हाँ, यदि किसी topic के लिए Purchase keywords नहीं मिलते हैं तो आपको Consideration ( Mid tail ) के बारे में जरुर सोचना चाहिए।

मुझे लगता है अब आप different types of keywords के बारे में भी जान गए होंगे और ये भी समझ गए होंगे कि किस तरह का keyword हमारी post के लिए important होता है। चलिए अब हम आपको search query के बारे में बताते हैं।

What are queries {queries kya hoti hai} :

According to Wikipedia ये words होते हैं जिन्हें कोई user, search engine में कुछ information प्राप्त करने के लिए normally type करता है, उसे नहीं मालूम होता कि keyword क्या है। जैसे मान लीजिये मुझे ये मालूम करना है कि ” blog कैसे बनाते हैं ” ? तो में google में type करूँगा कि ” How to make a blog ” या ” Blog kaise banate hai “. तो search engine इस queries से related जितने भी webpage होंगे उनको search result में show कर देगा। मुझे लगता है आपके mind में current जरुर दौड़ गया होगा कि ये तो बहुत powerful चीज है।

में आपको बताना चाहूँगा कि आप अपने article में keywords के साथ – साथ queries को भी insert किया करें इससे आपकी post organic traffic प्राप्त करने के लिए बहुत ही powerful बन जाती है।

इसको example के through फिर से समझने की कोशिश करते हैं। मान लीजिये मुझे ये जानना है कि ” blogging में कैसे successful हो सकते हैं ” तो इसके लिए हम google में type करेंगे कि ” How to become successful in blogging ” ये एक query है जिसे मैंने इससे related information लेने के लिए search engine में लिखा है। अब google check करेगा कि किस – किस website या blog पर और किस post में इस query को लिखा गया है।

जैसे ही उसे ये query वाली post मिलती है और जिन – जिन website पर मिलती है उन्हें वो अपने search result में post priority के हिसाब से show कर देगा। जहाँ से हम किसी भी suggested URL पर click करके उसके page पर पहुँच जायेंगे और information प्राप्त करने लगेंगे या content read करने लगेंगे। तो इस तरह से query work करती हैं।

Types of queries :

ज्यादातर blogger को ये नहीं मालूम होगा कि ये कितने प्रकार की होतीं हैं, ये तीन प्रकार की होती है –

  1. Navigational search queries : ये वो query होती हैं जिन्हें google में type करके किसी perticular webpage या company service तक पहुंचा जाता है, बिना website address डाले। जैसे ” Facebook” “YouTube” इत्यादि।
  2. Informational search queries : ये वो query होती हैं जिन्हें use करके किसी topic के बारे में deep information प्राप्त कर सकते हैं क्योंकि search engine इस तरह की queries के लिए broad result show करता है जिसमें बहुत सारे webpages शामिल होते हैं। इसमें Navigational search queries जैसा, किसी specific webpage के लिए search result show नहीं होता। इसमें question answer वाले words सामिल होते हैं, जैसे ” how to do ” इत्यादि।
  3. Transactional search queries : इसके नाम से ही समझ सकते हैं कि यह transaction से related है। ये exact brand और product names के लिए Transaction related query होती है जैसे ” purchase Sony Xperia aqua M4 ” या ” Buy Blue Yeti Microphone “ इत्यादि।

वैसे queries के बारे में deep discussion के लिए अलग से post लिखूंगा क्योंकि एक बहुत बड़ा topic है जिसे केवल एक ही post में cover नहीं किया जा सकता है।

अब आपके दिमाग में फिर से एक question उछल कूद कर रहा होगा कि हमें अपनी post के लिए कौनसी queries को use करना चाहिए ? तो इसके लिए में यही कहूँगा कि आप अपनी post में यदि queries का उपयोग करना है तो mostly, Informational Search Queries का ही उपयोग करें। इससे आपके blog का organic traffic increase होगा।

Keywords Aur Queries me kya Difference hota hai ?

जैसा कि में ऊपर बता चुका हूँ कि keyword वो special words होते हैं जिन्हें advertisers अपने campaign के लिए target करते हैं। मतलब इन words से किसी भी user को कोई लेना देना नहीं होता है। ये internet marketer related होते हैं।

जबकि queries उन words का combination होता है जिन्हें user search engine में कोई information collect करने के लिए type करता है। Normal user नहीं मालूम होता कि कौनसा keyword है वो किसी भी service के बारे में उससे related कुछ type करके उस content तक पहुँचाना चाहता है जिन webmasters ने उन words को अपने blog में mentioned किया है। मतलब ये user related होती है।

Kya Post me Keywords Aur Queries dono use karna chahiye ?

यहाँ तक post पढने के बाद आपका यही question बचा था कि क्या हमें अपनी post में Keywords Aur Queries दोनों को use करना होगा ? तो में बताना चाहूँगा जितना हो सके अपनी post में long tail keywords के साथ – साथ queries भी use करना चाहिये, लेकिन spamming बिलकुल ना करें।

एक बार में फिर से clear करना चाहूँगा कि without spamming आप keywords और queries दोनों को use कीजिये। क्योंकि इससे आपके blog का search engine से आने वाला traffic incredibly improve होगा। और हम सब जानते हैं कि किसी भी blog के लिए organic traffic ही सबसे बड़ी उपलब्धि होती है।

Conclusion :

यदि आप अपने blog real में popular बनाना चाहते हैं तो हम सब जानते हैं कि इसके लिए कोई ऐसी trick नहीं हैं जिससे कोई भी website कुछ ही दिनों में अच्छा traffic प्राप्त कर पाए। लेकिन हाँ, ये जरुर confirm है कि यदि आप अपनी हिम्मत नहीं हारेंगे और सही तरीके से white hate SEO करते हुए लगे रहेंगे तो में आपको believe देता हूँ कि एक दिन आप जरुर 100% अपने blog को success होता देखेंगे।

Long tail Keywords and Queries दोनों को अपनी blog के article में सही तरीके से use कीजिये फिर देखना आपका traffic day by day बढ़ता चला जायेगा, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि आप कुछ भी लिखेंगे और popular हो जायेगा। आपको quality content ही लिखना होगा और उसके साथ Keywords and Queries को insert करना होगा।

अब आप जान गए होंगे कि Queries और Keywords के बीच क्या Difference होता है. यदि फिर भी आपको Keywords and Queries से related कोई confusion है तो आप comment के माध्यम से हमसे पूछ सकते हैं। यदि ये article आपको पसंद आये तो इसे social media पर अपने friends के साथ share करना ना भूलें।         Best of Luck !

Comments

  1. Reply

  2. By Kamalesh

    Reply

    • Reply

  3. By kamlesh parihar

    Reply

  4. By Ashish Sahu

    Reply

    • Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *